"> ');
Home » बॉर्डर पर नेपाल पुलिस की फायरिंग, एक की मौत दो घायल
अंतर्राष्ट्रीय

बॉर्डर पर नेपाल पुलिस की फायरिंग, एक की मौत दो घायल

Yuva Bharat Samachar-Ek Naya Nazariya
Pooja cloths house

भारत-चीन के बीच विवाद रुकने का नाम नहीं ले रहा है, तो दूसरी तरफ भारत और नेपाल के बीच भी जारी तनाव से सीमा पर फायरिंग हुई। फायरिंग में एक शख्स की मौत हो गई, जबकि दो गंभीर रूप से घायल हो गए। ये पूरी घटना बिहार में भारत-नेपाल सीमा के पास सीतामढ़ी के सोनबरसा थाना क्षेत्र के जानकीनगर बॉर्डर की है।

बताया जा रहा है कि सीमा पर दो गुटों में विवाद के बाद फायरिंग की गई। जिसमें 3 लोग शिकार बने हैं। ग्रामीणों का कहना है कि फायरिंग नेपाल की ओर से की गई है। वहीं आपको यह भी बता दें कि नेपाल पुलिस आखिर क्या कह रही है, नेपाल पुलिस के एसपी का कहना है कि पुलिस का हथियार छीन कर लोग भाग रहे थे। जिसके बाद नेपाल पुलिस को गोली चलाने पर मजबूर होना पड़ा। वहीं बॉर्डर पार जाने को लेकर विवाद में गोली चलाने की बात कही जा रही है।

ये फायरिंग की घटना ऐसे समय पर हुई है जब दोनों देशों के बीच सीमा विवाद को लेकर विवाद चल रहा है। फायरिंग के पीछे नेपाल का क्या मंसूबा है। इस बात की जांच जारी है। वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे। एसएसबी के डीजी का कहना है कि नेपाल सुरक्षाकर्मियों ने एक व्यक्ति को भी हिरासत में ले लिया है। उनके साथ बातचीत की जा रही है ताकि मामले की जानकारी हो सकें।

नेपाल पुलिसकर्मियों और लोगों के बीच क्यों हुआ विवाद…
दरअसल, नेपाल पुलिसकर्मियों लोगों के बीच विवाद कारण है। एक परिवार नेपाल जा रहा था, जिन्हें नेपाल सुरक्षाकर्मियों ने बॉर्डर पर रोक लिया और वापस लौटने को कहा इस बात को लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। इस दौरान नेपाल सुरक्षाकर्मियों ने फायरिंग कर दी। जिससे 3 लोगों को गोली लग गई और एक की मौत भी हो गई है। इतना ही नहीं सुरक्षाकर्मियों ने एक व्यक्ति को हिरासत में ले लिया।

भारत-नेपाल विवाद
नेपाल के बीच सीमा विवाद कालापानी और लिपुलेख को लेकर है। भारत के गृह मंत्रालय ने नवंबर 2019 में एक नक्शे में कालापानी क्षेत्र को शामिल किया था।  जिस पर नेपाल अपना दावा जता रहा है। भारत के कई और इलाकों को भी नेपाल अपना बता रहा है। जिसको लेकर दोनों देशों में काफी समय से विवाद चल रहा है।

Written By: Pooja Sahaniya
YUVA BHARAT SAMACHAR
MahaLaxmi group of institution
MahaLaxmi group of institution