"> ');
Home » मेरठ: 350 करोड़ का राशन घोटाला
अन्य

मेरठ: 350 करोड़ का राशन घोटाला

Yuva Bharat Samachar-Ek Naya Nazariya

Pooja cloths house

गरीबों के लिए सरकार कितना भी कर ले लेकिन गरीबों तक पहुंचे तब ना। देश में हर साल ना जाने कितने घोटाले सामने आते हैं। जिससे गरीबों के पेट पर मार पड़ती है और घोटालेबाज अपना पेट इतना भर लेते हैं कि हजम कर पाना मुश्किल हो जाता है। अब यूपी के क्रांतिकारी शहर मेरठ में एक बड़ा राशन घोटाला सामंने आया। इतना बड़ा घोटाला कि कई हजार गरीब परिवार कई सालों तक बैठकर आराम से खा सकते है। ये घोटाला 350 करोड़ है जिसमें आपूर्ति विभाग के कर्मचारी बुरी तरह से फंस चुके हैं। इस घोटाले को अंजाम देने के लिए आरोपी पूर्व डीएसओ और सप्लाई इंस्पेक्टर की आइडी का इस्तेमाल कर रहे थे।

पुलिस गिरफ्त में दो आरोपी

डीएसओ के साथ काम करने वाले कंप्यूटर ऑपरेटर और पूर्ति निरीक्षक की आइडी पर काम करने वाले जुल्फिकार और कोटेदार सादिक को क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ के बाद आरोपी जुल्फिकार ने बताया वह पूर्ति कार्यालय मेरठ में पूर्ति निरीक्षक के लिए काम करता था। यहीं से तत्कालीन डीएसओ के साथ काम करने वाले शहनवाज के सहयोग से पूर्ति निरीक्षक की आईडी और पासवर्ड प्राप्त करके आधार नंबर को बदलकर पूर्ति विभाग के अधिकारियों की सहमति से राशन की कालाबाजारी की। यहीं नहीं आरोपी ने कहा कि रकम की हिस्सेदारी अफसरों और कर्मचारियों को जाती थी। इतने बड़े घोटाले में 25 हजार से भी ज्यादा लोगों का राशन उनसे अवैध तरीके से छीना गया।

कैसे पकड़ा गया घोटाला ?

इतने बड़े घोटाले की शिकायत बीजेपी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने सूबे के मुख्यमंत्री योगी से की थी। जिसमें मेरठ समेत कई जिलों में लोगों को फर्जी तरीके से राशन देने के नाम पर करोड़ों के घोटाले शामिल थे। बता दें कि जुलाई 2016 और 2017 के बीच 84 मामले दर्ज हुए थे। राशन घोटालों के लिए एसआईटी की टीम गठित की गई। पूरे मामले में एसपी क्राइम रामअर्ज का कहना है कि इस मामले में तत्कालीन डीएसओ से लेकर पूर्ति निरीक्षक तक जांच के दायरे में है। इस मामले में पूर्ति विभाग के कर्मचारियों पर आरोप है। उनके खिलाफ आरोप पत्र लगाने के लिए डीएम से इजाज़त मांगी जा रही है। जैसे ही डीएम मंजूरी देते हैं, मुकदमों के आरोप पत्र भी अदालत में दाखिल किया जाएग।.

सवाल यहीं है कि कब तक ऐसे ही गरीबों के साथ खिलवाड़ होता रहेगा। हर साल ना जाने कितने गरीबों के मुंह से उनका निवाला छीन लिया जाता है।  वहीं घोटालाबाजों को सरकार और प्रशासन का कोई डर नहीं है। यहीं कारण है कि घोटालेबाजों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं।

Written by: Pooja Sahaniya
YUVA BHARAT SAMACHAR

We are hiring

Suraj mobile center

Suraj mobile center