"> ');
अन्य

‘मानव जीवन में संचार और पत्रकारिता का अहम स्थान’- कुलपति डॉ. वीपी सिंह

Pooja cloths house

नवनियुक्त कुलपति ने किया सुभारती पत्रकारिता महाविद्यालय का दौरा

मेरठ। सुभारती पत्रकारिता एवं जनसंचार संकाय में नवनियुक्त कुलपति डॉ. वीपी सिंह ने औपचारिक दौरा किया और महाविद्यालय के कार्यों की समीक्षा की।इसके साथ ही दौरे में उन्होंने सभी शिक्षकों, गैर शिक्षकों से भेंट की और भविष्य की योजनाओं तथा दिशा-निर्देशों के बारे में विस्तृत कार्य योजना साझा की।

कुलपति डॉ वी पी सिंह (सुभारती) को प्रतिभाओं से रू ब रू कराते डीन प्रो डॉ नीरज कर्ण सिंह

कुलपति डॉ. वीपी सिंह ने इस दौरान सभी शिक्षक, गैर-शिक्षक अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि मानव जीवन में संचार और पत्रकारिता अहम स्थान रखती है। हमें इस भाव को और अधिक परिस्कृत रूप में अपने विद्यार्थियों के समक्ष रोपित करना है। उन्होंने कहा कि पत्रकार और पत्रकारिता के लिए भाषा का ज्ञान अहम योग्यता होता है, इसलिए कम से कम तीन भाषाओं का ज्ञान बेहद आवश्यक है। यह इसलिए भी आवश्यक हो जाता हैं क्योंकि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 भारतीय भाषाओं में शिक्षा को प्रतिस्थापित करने जा रही है। उन्होंने कहा शोध का कार्य हर शिक्षक को करना होगा। शोध लेख लिखने से लेकर शोध प्रोजैक्ट प्राप्त करने तक सभी कार्य शिक्षक को एक नई पहचान देते हैं, इसलिए शोध कार्य के लिए सजग होना आवश्यक है।

महाविद्यालय के कार्य एवं सिद्धांतों को जानकर उन्होंने कहा कि सुभारती विश्वविद्यालय का पत्रकारिता महाविद्यालय बृहद से सूक्ष्म स्तर पर विद्यार्थियों के चरित्र का निर्माण कर रहा है। जिसमें एक नहीं, महाविद्यालय के सभी शिक्षकों एवं अधिकारियों का संयुक्त योगदान है। महाविद्यालय  सही राह और दिशा की ओर प्रशस्त है।

इस मौके पर संकाय के डीन प्रो. (डॉ.) नीरज कर्ण सिंह ने कुलपति के समक्ष महाविद्यालय के तमाम शिक्षण-प्रशिक्षण, शोध, पाठ्यक्रमों सहित विस्तृत जानकारी साझा करते हुए कहा कि हमारा महाविद्यालय पिछले 12 वर्षों से नित नए कृतिमान स्थापित कर रहा है। देश के विभिन्न मीडिया संस्थानों में हमारे विद्यार्थी कार्य कर रहे हैं जो इस महाविद्यालय तथा विश्वविद्यालय का गौरव बढ़ा रहे है। अभी हाल ही में महाविद्यालय की एक छात्रा ने प्रतिष्ठित न्यूज चैनल में प्राइम टाइम एंकर के रूप में कार्य करना शुरू किया।

इस मौके पर प्रोफेसर अशोक त्यागी, सहायक प्राध्यापक डॉ. गुंजन शर्मा,  डॉ. मुदस्सिर सुल्तान जारगर, बीनम यादव, यासिर अरफात तथा प्रीति सिंह मौजूद रहे।

MahaLaxmi group of institution
MahaLaxmi group of institution