"> ');
राष्ट्रीय

हवाई यात्रियों को नियमों का उल्लंघन करने पर 1करोड़ जुर्माना

Pooja cloths house
कोरोना महामारी के दौरान सभी जगहों के नियमों में बदलाव देखे जा रहे है। इस बीच संसद ने आज बैठक में वायुयान संशोधन विधेयक-2020 को मंजूरी दे दी है। जिसमें हवाई नियमों के उल्लंघनों के मामले में जुर्माने की अधिकतम सीमा को 10 लाख रुपए से बढ़ाकर एक करोड़ रुपए तक का कर दिया गया है।
लोकसभा में यह विधेयक बजट सत्र में पारित हुआ था जबकि राज्यसभा में मानसून सत्र के दूसरे दिन यानी कि आज इस विधेयक को मंजूरी दे दी गई है।
 हरदीप सिंह पुरी ने इस विषय पर चर्चा करते हुए एटीसी कर्मचारियों की कमी का मुद्दा उठाया जबकि हकीकत यह है कि पिछले तीन वर्षों में 3000 एटीसी नियुक्त किए गए हैं।
हवाई अड्डों का निजीकरण के सवाल पर उन्होंने यह कहा कि इसको ऐतिहासिक परिदृश्य में देखना चाहिए। 2006 में दिल्ली और मुंबई में दो प्रमुख हवाई अड्डों का निजीकरण किया गया था और उसके परिणाम में भारतीय को अभी तक विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के द्वारा 29 हजार करोड़ रुपए का राजस्व मिल चुका है। उन्होंने कहा कि निजीकरण के बाद इन दोनों हवाई अड्डों पर यात्री ट्रैफिक में 33% की बढ़ोतरी हुई है।
 उन्होंने यह भी कहा कि साल 2018 में 6 हवाई अड्डों का निजीकरण करने की तैयारी की गई थी। एक हवाई अड्डे के लिए तो सबसे अधिक बोलियां भी अाई थी। इसके लिए पूरी दुनिया की कंपनियों ने बोली लगाई थी। पुरी ने कहा कि केरल में एक हवाई अड्डे के निजीकरण को लेकर राज्य सरकार ने भी बोली लगाई थी, लेकिन उसकी बोली सबसे ऊंची बोली की तुलना में 93% से भी कम रह गई थी। इसके बाद सदन ने इस विधेयक को ध्वनिमत से पारित कर दिया।
जदयू के रामचन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि पटना के बाहर एक हवाई अड्डा विकसित करने पर सहमति हुई है, जिस पर अभी कार्य करने की जरुरत है। उन्होंने बिहार के दरभंगा और पूर्णिया से विमान सेवा शुरू करने की मांग की है। इसके साथ ही बिहार का ऐतिहासिक शहर गया से अंतरराष्ट्रीय विमान सेवा शुरू करने पर भी बल दिया गया है।मनोज कुमार झा ने भी दरभंगा और पूर्णिया से विमान सेवा शुरू करने पर अपना प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि निजीकरण करने से पहले संबंधित पक्षों से बातचीत करनी चाहिए।
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रफुल्ल पटेल ने भी इस सासंद में कहा कि बहुत से लोग विमान यात्रा करना चाहते हैं और सामान्य लोग भी अब इस यात्रा का लाभ उठा रहे है। इस महामारी के दौरान बहुत से लोगो ने हवाई यात्रा की है। साथ ही यह भी कहा कि अभी भी चार से पांच प्रतिशत लोग ही साल में एक बार विमान यात्रा कर रहे हैं। लेकिन इस साल रेलगाड़ी के ना चलने से लोगो ने सबसे ज्यादा हवाई यात्रा का लाभ उठाया है। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र के लोग दक्षिण भारत जाना चाहें तो वे रेलगाड़ी से दो दिन में पहुंचेंगे जबकि विमान से यह यात्रा बहुत कम समय में हो सकती है।
इस चर्चा में वामपंथी वियोन विस्वम, टीडीपी के कनकमेदला रवीन्द्र कुमार, शिवसेना के अनिल देसाई, अन्नाद्रमुक के एम. थंबीदुरई, भाजपा के डीपी वत्स, कांग्रेस के विवेक तन्खा, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह, माकपा की झरना दास, वाईएसआर कांग्रेस के विजय साई रेड्डी और बसपा के विश्वंभर प्रसाद निषाद ने भी चर्चा में हिस्सा लिया।
Written by: ANNU CHOUBEY

YUVA BHARAT SAMACHAR
MahaLaxmi group of institution
MahaLaxmi group of institution