"> ');
Home » International Tea Day: 2021 में दूसरी बार मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस
अंतर्राष्ट्रीय लाइफस्टाइल

International Tea Day: 2021 में दूसरी बार मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस

international tea day

Pooja cloths house

अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस पहली बार साल 2020 में मनाया गया। भारतीयों का चाय के साथ एक अटूट नाता है। जी हां, सुबह की शुरूआत हो, दोस्तों के साथ महफिल हो, रिश्तेदार का आना या किसी के साथ समय बिताना हो। भारत में कहा जाता है कि जिसके साथ भी रोज एक पीते हैं उनके रिश्ते ज्यादा मजबूत होते हैं। अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस भारत में 21 मई 2021 को दूसरी बार मनाया जा रहा है। हालांकि कई देशों में 15 दिसंबर को भी चाय दिवस मनाया जाता है।

इतिहासः बता दें कि विश्व में चाय उत्पादक देश  2005 से 15 दिसंबर को ही चाय दिवस मनाते हैं। वहीं 2015 में भारत सरकार ने संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन के माध्यम से अंतर्राष्टीय चाय दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा। प्रस्ताव स्वीकार होने के बाद 21 मई को अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस के रूप में घोषित किया गया।

International Tea Day

-इस साल क्या रहेगी चाय दिवस की थीम

चाय दिवस की भी हर साल एक थीम रहती है जिस पर साल भर काम किया जाता है। इस साल चाय दिवस की थीम ‘चाय और निष्पक्ष व्यापार’ रखी गई है। जिसका मुख्य उद्देश्य गरीब क्षेत्रों में निष्पक्ष रूप से व्यापार को बढ़ावा देना है।

International Tea Day

-स्वाद ही नहीं, इम्युनिटी भी बढ़ाती है चाय

भागदौड़ भरी जिंदगी में थकान को दूर करने, स्वाद बदलने में चाय एक बेहतर जरिया है। हर्बल चाय आपके शरीर को कई परेशानियों को दूर करने में असरदार मानी जाती है। रोजाना एक हर्बल चाय पीने से आपकी इम्युनिटी भी बढ़ती है। आइए, जानते हैं कौस ही चाय पीनी चाहिए-

1.अदरक वाली चायः अदरक कई बीमारियों का रामबाण इलाज है। अदरक पेट से जुड़ी कई परेशानियों को दूर करने में कामगार माना जाता है। वहीं अदरक शरीर में गर्मी बनाए रखता है। इसलिए सर्दियों में अदरक की चाय अधिक पी जाती है। लेकिन कहा जाता है गर्मियो में अधिक अदरक की चाय नहीं पीनी चाहिए।

2.पुदीना चायः पुदीने का स्वाद बेहद रिफ्रेशिंग होता है जो पांचन तंत्र से जुड़ी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है। आमतौर पर पेट में दर्द होने पर पुदीना का लिक्विड पीया जाता है। इसलिए पुदीने की चाय भी पाचन तंत्र को काफी आराम देती है।

3.हल्दी वाली चायः घरेलू नुस्खों में हल्दी हर बीमारी का रामबाण इलाज है। दर्द से लेकर चोट में भी हल्दी का इस्तमाल किया जाता है। रोजाना हल्दी का दूध पीने से भी शरीर में से छोटी मोटी बीमारी तो यूंही दूर हो जाती है। हल्दी की चाय के सेवन से पेट में गैस, पेट फूलने की दिक्कत दूर रहती है। इस चाय में हल्दी के साथ-साथ चाय में चुटकी भर काली मिर्च भी डाल सकते हैं।

4.सौंफ वाली चायः पेट में दर्द, कब्ज को दूर करने के लिए सौंफ का इस्तमाल आमतौर पर किया जाता है। सौंफ खाने से पेट में भरी गैस आसानी से पास हो जाती है। सौंफ वाली चाय पीने से स्वाद तो मिलता ही है साथ ही पेट की समस्या भी दूर होती है।

BY: RAHUL SINGHAL
YUVA BHARAT SAMACHAR

 

We are hiring

Suraj mobile center

Suraj mobile center