"> ');
Home » जानें कब और किस योग में मनाया जाएगा जेष्ठ शुक्ल दशमी(गंगा दशहरे) का पर्व
धार्मिक

जानें कब और किस योग में मनाया जाएगा जेष्ठ शुक्ल दशमी(गंगा दशहरे) का पर्व

ganga dusshera 2021

Pooja cloths house

-पद्म और सर्वार्थ सिद्धि योग में मनेगा दशहरे का पर्व

पंडित शिवकुमार शर्मा ,आध्यात्मिक गुरु एवं ज्योतिषाचार्य,

-गंगा का पृथ्वी पर अवतरण इसी दिन हुआ था
-वैवाहिक कार्यक्रमों , भूमि पूजन व गृह प्रवेश आदि के लिए यह होता है बहुत शुभ मुहूर्त
-इस वर्ष जेष्ठ शुक्ल दशमी अर्थात गंगा दशहरे का पावन पर्व 20 जून दिन रविवार को मनाया जाएगा।
रविवार के दिन चित्रा नक्षत्र होने से सर्वार्थ सिद्धि योग और पद्म योग का निर्माण हो रहा है ।इसलिए इस पर्व की महत्ता और अधिक बढ़ गई है।
पौराणिक आख्यानों के अनुसार राजा भगीरथ अपने साठ हजार पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए कठिन तपस्या करके स्वर्ग से गंगा जी को पृथ्वी पर लाए थे।
स्वर्ग से आती हुई गंगा जी की तेज धारा कहीं पृथ्वी के अंदर न चली जाए, इसीलिए उसको संभालने के लिए उन्होंने भगवान शिव को प्रसन्न किया। भगवान शिव ने अपनी जटाओं में गंगा जी को संभाला और जेष्ठ शुक्ल दशमी के दिन अपनी जटाओं की एक लट को खोलकर गंगाजी को पृथ्वी पर छोड़ दिया। गंगोत्री से गंगासागर तक सूखे मैदानों को हरा भरा करती हुई गंगा आज भी अपने पावन जल से लाखों-करोड़ों लोगों के जीवन का उद्धार करते हुई और उत्तर भारत की जीवनदायिनी गंगा अविचल रूप से निरंतर बह रही है।

-जेष्ठ शुक्ल दशमी का शुभ मुहूर्त व योग

जेष्ठ शुक्ल दशमी रविवार को 16:21 बजे तक है और तुला के चंद्रमा है जिससे यह पर्व बहुत ही महत्वपूर्ण हो गया है ।
इस दिन लाखों लोग गंगा में डुबकी लगाते हैं, मां गंगा की आरती करते हैं और प्रातः सूर्योदय से पहले गंगा मां का स्मरण करते हुए जल में डुबकी लगाते हैं अथवा अपने-अपने घरों में लोग गंगा का ध्यान व स्मरण करते हुए स्नान करते हैं। इस दिन गंगा स्नान करने का मुहूर्त प्रातः ब्रह्म मुहूर्त में 3:30 बजे से आरंभ हो जाएगा। जो सूर्योदय के पश्चात 7:00 बजे तक रहेगा।
गंगा पूजन का सबसे महत्वपूर्ण मुहूर्त प्रात सूर्योदय 5:27 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक बहुत शुभ माना गया है।
गंगा दशहरे के इस पावन अवसर पर बहुत से लोग वैवाहिक कार्यक्रम से पूर्व के कार्यक्रम जैसे सगाई, रिंग सेरेमनी, लग्न आदि करना शुभ मानते हैं। गृह प्रवेश ,नींव पूजन , आभूषण खरीदना, नवीन व्यापार अथवा धन का निवेश करना आदि बहुत ही शुभ माना जाता है।

पं.शिवकुमार शर्मा, आध्यात्मिक गुरु एवंज्योतिषाचार्य 
अध्यक्ष- शिवशंकर ज्योतिष एवं वास्तु अनुसंधान केंद्र गाजियाबाद

We are hiring

Suraj mobile center

Suraj mobile center