"> ');
Home » भगवान श्रीकृष्ण और श्रीराम में 10 अंतर जानकर आप हैरान हो जाएंगे
धार्मिक

भगवान श्रीकृष्ण और श्रीराम में 10 अंतर जानकर आप हैरान हो जाएंगे

RAM

Pooja cloths house

कहा जाता है कि भगवान एक हैं मगर उनके रूप अनेक हैं। सृष्टि के कर्ता भगवान विष्णु ने कई रूप में जन्म लेकर अपने भक्तों का कल्याण किया है। उन्हीं रूपों में श्रीकृष्ण और राम का अवतार भी है। ये दोनों रूप बिल्कुल अलग हैं। जिनमें कई ऐसे अंतर बताएं गए हैं, जिन्हें जानकर आप आश्चर्य में पड़ जाएंगे। आइए जानते हैं कि कृष्ण और राम किस प्रकार से अलग हैं।

1. बता दें कि श्रीकृष्ण रासरसिया माने जाते थे और उनकी 8 पत्नियां थीं। वहीं भगवान श्रीराम एक प‍त्नीव्रता पति थे।

2. भगवान श्रीकृष्ण का स्वभाव बड़ा ही नटखट था। वो गोपियों और माताओं को परेशान करके माखन चुराते थे। इसी के विपरीत श्रीराम जी स्वभाव बड़ा ही सरल और शांत है। वे अपने कार्य और कर्म के प्रति सदैव ईमानदार रहे इसलिए राम जी को मर्यादा पुरुषोत्तम कहा जाता है।

3. भगवान श्रीराम को गृहस्थ जीवन का सुख ना के बराबर ही पाया था। जबकि श्रीकृष्ण ने कभी भी पत्नी वियोग नहीं सहा। इन्होंने हमेशा एक सुखमय जीवन व्यतीत किया।

4. श्रीराम का जन्म बेशक राजपरिवार में हुआ लेकिन उन्होंने बचपन से ही वनवासी, ऋषि के साथ रहकर धर्म के काम किए और असुरों का संहार करके सभी की सहायता की। इसी के विपरीत श्रीकृष्ण का बचपन राज परिवार में व्यतीत हुआ। वो राजनीति से जुड़े रहें।

5. श्री राम की पूजा में उनकी पत्नी यानि सीता जी का नाम लिया जाता है, जबकि कृष्ण भगवान के साथ सदैव ही राधा रानी का नाम लिया जाता है जो उनकी पत्नी नहीं प्रेमिका थी।RAM

6. रामजी के हनुमान, अंगद और सुग्रीव जैसे परम भक्त थे। भगवान ने अपने भक्तों के कुछ मांगने से पहले ही उनकी इच्छाओं की पूर्ति कर देते हैं। परन्तु श्रीकृष्ण तो अपने भक्तों के भक्त थे। कृष्ण अपने भक्तों की परीक्षा लेने के बाद ही कृपा करते हैं। कृष्ण ने अपने मित्र सुदामा को उसके याचना करने के बाद ही वैभव प्रदान किया।

7. श्रीराम ने वन जाकर जगह-जगह राक्षकों का नाश किया जबकि श्रीकृष्ण ने राक्षकों को एक जगह एकत्रित किया और वध कर किया। दोनों भगवान ने राक्षकों का वध करके लोगों को उद्धार किया। एक रावण को मारा तो एक ने कंस को संहारा।

8. राम के रावण ने बहुत छल किया, उसके बाद भी राम ने रावण का वध पूरी ईमानदारी के साथ किया। जबकि श्रीकृष्ण के साथ जिसने भी छल किया उन्होंने उसको छल से ही जवाब दिया।

9. श्रीराम 13 कलाओं में दक्ष थे जबकि श्रीकृष्ण 16 कलाओं में दक्ष थे। श्रीकृष्ण में जो अतिरिक्त कलाएं थीं वह उस युग के मान से जरूरी थीं।

10. श्रीकृष्ण से हमें सुखी जीवन का ज्ञान प्राप्त होता हैं तो वहीं श्री राम जी के जरिए हमें जीवन की बाधाओं से मुक्त होने का मार्ग मिलता है।

TEAM 

YUVA BHARAT SAMACHAR

We are hiring

Suraj mobile center

Suraj mobile center